Thursday, July 29, 2021
Homeबिजनेसबाकी क्रिप्टोकरेंसी भी 7% टूटीं, चीन में सबसे बड़ा माइनिंग सेंटर बंद...

बाकी क्रिप्टोकरेंसी भी 7% टूटीं, चीन में सबसे बड़ा माइनिंग सेंटर बंद होने से हुआ असर

  • Hindi News
  • Business
  • Bitcoin Price: Cryptocurrency Price Tracker Update | Drop In Bitcoin, Dogecoin, Ethereum And Other Coin Prices
  • क्रिप्टो करेंसी को लेकर अमेरिका, यूके के बाद अब चीन में भी सख्ती कर दी गई है
  • इस साल के अंत तक 1.35 लाख डॉलर तक बिटकॉइन का भाव जा सकता है

क्रिप्टो करेंसी की कीमतों में भारी गिरावट जारी है। शुक्रवार को 6% तक कीमतें गिरने के बाद आज फिर कीमतें गिरी हैं। आज इनकी कीमतों में 7% तक की गिरावट आई है। इसमें प्रमुख क्रिप्टोकरेंसी बिटकॉइन भी है। बिटकॉइन की कीमत आज 10% गिर कर 32,094 डॉलर पर पहुंच गई है। पिछले 12 दिनों में यह सबसे ज्यादा गिरावट है। अप्रैल में यह 65 हजार डॉलर पर थी, तब से अब तक इसकी कीमत आधा गिर चुकी है।

दो दिनों में कीमतों में भारी कमी

जानकारी के मुताबिक, बिटकॉइन, डागकॉइन और पोलकाडाट की कीमतों में 3 से 7% की आज गिरावट आई है। यानी दो दिनों में इन सभी की कीमतें 13% तक गिर गई हैं। दरअसल चीन के रेगुलेटर ने बिटकॉइन माइनिंग को लेकर स्क्रुटनी की बात कही है। यही कारण है कि टॉप 10 डिजिटल मनी की कीमतों में आज जमकर कमी आई है।

बिटकॉइन है लोकप्रिय डिजिटल करेंसी

बिटकॉइन सबसे लोकप्रिय डिजिटल करेंसी है। क्रिप्टोकरेंसी चीन में बड़ा बिजनेस है। पूरी दुनिया के बिटकॉइन प्रोडक्शन में आधा हिस्सा चीन का है। चीन द्वारा क्रिप्टोकरेंसी माइनिंग पर लगाम लगाने की योजना तेजी में है। चीन के दक्षिणी इलाके सिचुआन में क्रिप्टोकरेंसी माइनिंग प्रोजेक्ट को बंद करने का ऑर्डर दे दिया गया है। यह चीन का सबसे बड़ा माइनिंग सेंटर है।

17 अरब डॉलर का निवेश

हालांकि वेंचर कैपिटलिस्ट फंड ने पहले ही इस साल में 17 अरब डॉलर का निवेश इन कंपनियों में किया जो इस सेक्टर में काम कर रही हैं। यह निवेश पिछले कुछ सालों में सबसे ज्यादा रहा है। पिछले हफ्ते क्रिप्टोकरेंसी की कीमतों में भारी गिरावट आई थी। हालांकि कम समय वाले ट्रेडर इसमें ट्रेड कर रहे हैं और इससे इसका वोल्यूम बढ़ रहा है।

वजीरएक्स से जानकारी मांगी

बता दें कि हाल में मुंबई की नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (NCB) ने हाल में वजरीएक्स से इसके प्लेटफॉर्म पर ड्रग डीलर के बारे में जानकारी मांगी है। हालांकि इस प्लेटफॉर्म ने इस तरह के मामले से इनकार किया है और कहा है कि यह मामला उसके प्लेटफॉर्म का नहीं है। NCB ने क्रिप्टो किंग मकरंद अदिविरकर को गिरफ्तार किया है। इस पर आरोप है कि इसने बिटकॉइन का उपयोग कर डार्क वेब पर LSD की खरीदी की थी।

बिटकॉइन में अभी भी तेजी की उम्मीद

हालांकि इस भारी गिरावट के बाद भी ऐसा माना जा रहा है कि अगस्त तक बिटकॉइन का भाव 47 हजार डॉलर पर चला जाएगा। स्टॉक-टू-फ्लो बिटकॉइन प्राइस फोरकास्टिंग मॉडल्स के निर्माता ने कहा है कि, यहां तक कि बिटकॉइन के लिए सबसे खराब स्थिति अगस्त में दिखेगी जब 47,000 डॉलर पर ट्रेड करेगी। सितंबर में मामला थोड़ा उल्टा होगा और यह महीने के लिए 43000 डॉलर ट्रेड कर न्यूनतम लक्ष्य हासिल करेगी और अक्टूबर में 63000 डॉलर पर पहुँचेगी जब यह आल टाइम हाई होगा। इसके बाद इसमें और तेजी आएगी और यह नवंबर में 98000 और साल के अंत तक 1.35 लाख डॉलर पर पहुंच जाएगी।

अमेरिका रेगुलेटर की वजह से गिरावट रही

पिछले हफ्ते क्रिप्टोकरेंसी की कीमतों में गिरावट का प्रमुख कारण अमेरिकी रेगुलेटर का मामला रहा है। रेगुलेटर ने बिटकॉइन ETF की मंजूरी में देरी कर दी है। इससे क्रिप्टो के निवेशकों का सेंटीमेंट बिगड़ गया है। टॉप 10 डिजिटल करेंसी की कीमतों में गिरावट दिखी है। अमेरिकी रेगुलेटर सिक्योरिटीज एंड एक्सचेंज कमीशन (SEC) ने रेगुलेटरी फाइलिंग में कहा है कि बिटकॉइन ETF की लिस्टिंग के लिए जनता से कमेंट मंगाया जाएगा और फिर फैसला होगा। हालांकि इससे पहले भी कई बार रेगुलेटर ने इसकी मंजूरी में देरी की है।

यूके में भी रेगुलेटर ने सख्ती की

अमेरिकी रेगुलेटर की तरह ही UK के भी रेगुलेटर फाइनेंशियल कंडक्ट अथॉरिटी ने कहा कि ज्यादा लोग अब क्रिप्टो के मुख्य निवेश के रूप में एक असेट जैसा देख रहे हैं। जबकि यह एक गैंबल है क्योंकि बिटकॉइन और इस तरह की क्रिप्टो करेंसी लेने वालों की संख्या ब्रिटेन में इस साल बढ़कर 23 लाख हो गई है। रेगुलेटर ने अलग से निवेशकों को चेतावनी दी है कि बड़े पैमाने पर यह अनरेगुलेटेड यानी रेगुलेट नहीं की जाने वाली क्रिप्टो असेट्स है। यह मई में अपनी कीमतों से अब तक 40-50% टूट चुकी है।

कुल मार्केट कैप 125 लाख करोड़ रुपए

आज के भाव पर देखें तो दुनिया की क्रिप्टो करेंसी का कुल मार्केट कैपिटलाइजेशन 125 लाख करोड़ रुपए है। इसमें बिटकॉइन का अकेले मार्केट कैप 50.57 लाख करोड़ रुपए है। यानी देश की सबसे मूल्यवान कंपनी रिलायंस इंडस्ट्रीज के मार्केट कैप से 3.5 गुना ज्यादा है। रिलायंस का मार्केट कैप 14 लाख करोड़ रुपए है। दूसरे नंबर पर इथेरियम है। इसका मार्केट कैप 23.46 लाख करोड़ रुपए है। कारडानो और बिनांस कॉइन का मार्केट कैप 4 लाख करोड रुपए से ज्यादा है।

भारत की बात करें तो यहां पर 12-14 क्रिप्टो के एक्सचेंज हैं जो कारोबार करते हैं। भारत में क्रिप्टोकरेंसी में रोजाना का टर्नओवर 1,000-1500 करोड़ रुपए का है। हालांकि यह शेयर बाजार में रोजाना के 2 लाख करोड़ रुपए के टर्नओवर की तुलना में 1% से भी कम है। देश में क्रिप्टो करेंसी में 1 से 1.20 करोड़ निवेशक हैं। हालांकि भारतीय बाजार में 7 करोड़ निवेशक हैं।

Source link

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments