Sunday, August 1, 2021
Homeभारतयूपी में चुनाव से पहले 10 लाख वैक्सीन डोज रोज चाहिए, माह...

यूपी में चुनाव से पहले 10 लाख वैक्सीन डोज रोज चाहिए, माह में एक करोड़ के लक्ष्य से सभी को नहीं लग पाएगी वैक्सीन

अगले साल होने वाला विधानसभा चुनाव उत्तर प्रदेश पर भारी पड़ सकता है। ये हम नहीं बल्कि वैक्सीनेशन और कोरोना के आंकड़े बता रहे हैं। अभी तक प्रदेश की महज 10% यानी 2.34 करोड़ आबादी को वैक्सीन लग पाई है। प्रदेश में 15 करोड़ लोगों की उम्र 18 साल से अधिक है। यानी चुनाव से पहले इन्हें हाल हालत में वैक्सीन लगाना जरूरी है। अगर ऐसा नहीं हुआ तो यहां हालात दूसरी लहर से भी भयावह हो सकते हैं।

एक्सपर्ट भी ऐसा ही मानते हैं। डीजी हेल्थ (रिटायर्ड) एसएन रिजवी कहना है कि अधूरे वैक्सीनेशन के साथ चुनाव हुए तो हालात फिर बेकाबू हो सकते हैं। पंचायत चुनाव इसका उदाहरण है। पंचायत चुनाव के दौरान एक महीने के अंदर करीब 7.50 लाख लोग संक्रमित हो गए थे। इसके अलावा वैक्सीनेशन के बिना इस तरह से बाजार खोल देना भी जोखिम भरा है।

हर महीने एक करोड़ लोगों को वैक्सीन भी कम पड़ जाएगी
यूपी में करीब 14.66 करोड़ वोटर्स हैं। अब तक 5 महीनों में 15 जून तक 2.34 करोड़ लोगों को ही वैक्सीन लगी है। इस महीने रफ्तार बढ़ी है। जून महीने 1 करोड़ डोज लगाने का लक्ष्य है। वैक्सीनेशन की इस रफ्तार को भी आधार बनाएं तो हर महीने 1 करोड़ डोज ही लगेंगे। इस हिसाब से चुनाव से पहले बचे हुए 8 महीने में 8 करोड़ डोज ही लग पाएंगे। तब भी कुल वैक्सीनेशन 10.50 करोड़ डोज से ज्यादा नहीं होगा। डबल डोज के दायरे में इससे आधे यानी 5.25 करोड़ लोग ही होंगे।

पंचायत चुनाव ने सबसे ज्यादा संक्रमण फैलाया

आंकड़े गवाह हैं कि यूपी में सबसे ज्यादा संक्रमण पंचायत चुनाव की वजह से फैला। प्रदेश में 15 से 29 अप्रैल तक 4 चरणों में पंचायत चुनाव हुए थे। 4 अप्रैल तक यूपी में 6.30 लाख संक्रमित थे, चुनाव बाद यह आंकड़ा 14 लाख पार हो गया था। यानी महीने भर में 7.50 लाख संक्रमित बढ़ गए थे। यूपी में एक दिन में कोरोना संक्रमितों की संख्या बढ़कर 30 हजार तक पहुंच गई थी। चुनाव में ड्यूटी करने वाले 2 हजार से ज्यादा कर्मचारी-अधिकारी भी कोरोना संक्रमित होकर जान गंवा चुके हैं। इलाहबाद हाईकोर्ट ने भी बीते दिनों सरकार से सवाल किया था कि कोरोना लंबे समय तक रहेगा, सरकार की क्या तैयारी है?

सरकार भी चिंता में, जून में एक करोड़ डोज का लक्ष्य

यूपी के एसीएस हेल्‍थ अमित मोहन प्रसाद ने बताया कि 14 जून तक हमने एक माह में एक करोड़ के निर्धारित लक्ष्‍य के सापेक्ष में 51 लाख वैक्‍सीन की डोज दी हैं। इस माह के अंत तक यूपी तय लक्ष्‍य को हासिल कर लेगा। मिशन जून की घोषणा करने के बाद से अब तक यूपी में दैनिक औसत पर कम से कम 3.92 लाख टीके लगाए जा चुके हैं। प्रदेश में 14 जून को सबसे ज्यादा 4 लाख 33 हजार से अधिक वैक्‍सीन की डोज दी गई है। 15 जून तक प्रदेश में 234,12,988 से अधिक वैक्‍सीन की डोज दी जा चुकी हैं। जिसमें लगभग 1,95,76,091 को पहली डोज और 38,36,897 दूसरी डोज दी जा चुकी है। हालांकि, एसीएस हेल्थ कहते हैं कि सीएम योगी आदित्‍यनाथ ने टीकाकरण अभियान को गति देने के निर्देश दिए हैं।

वैक्सीनेशन बढ़ाने के लिए सरकार की कोशिश

  • अभिभावक स्पेशल टीकाकरण बूथ
  • महिलाओं के लिए पिंक बूथ
  • शिक्षकों के लिए वैक्सीनेशन कैंप
  • मीडियाकर्मियों के लिए वैक्सीनेशन
  • रिक्शा, ऑटो चालकों व दिहाड़ी के लिए भी कैंप लगाने की तैयारी

वैक्सीन की उपलब्धता भी बड़ी चुनौती
वैक्सीन की उपलब्धता भी यूपी में बड़ी चुनौती है। पिछले महीनों में कई बार वैक्सीनेशन की रफ्तार इसलिए भी कम हुई है। क्योंकि वैक्सीन ही पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध नहीं हो पाई। वैक्सीनेशन सेंटर्स की संख्या भी घटकर आधी रह गई थी। हालांकि, जून महीने में राज्य सरकार ने वैक्सीनेशन ड्राइव शुरू की है। इसमें वैक्सीनेशन सेंटर की संख्या बढ़ाकर 6569 कर दी है। dashboard.cowin.gov.in पोर्टल पर इसकी पूरी जानकारी अपलोड की गई है। अफसरों का कहना है कि वैक्सीन की कमी नहीं है लेकिन हकीकत यह है वैक्सीन की कमी के चलते पिछले दिनों कई सेंटर पर वैक्सीनेशन नहीं हो सका था।

वैक्सीनेशन बढ़ाने वोटर लिस्ट देखकर भेजेंगे बुलावा पर्ची
यूपी में अब वैक्सीनेशन बढ़ाने के लिए घर-घर बुलावा पर्ची भेजे जाने की तैयारी है। इस अभियान को सफल बनाने के लिए नर्सिंग स्टूडेंट्स तक को ट्रेनिंग दी गई है। वजह यह है इतने बड़े पैमाने पर वैक्सीनेशन के लिए सरकार के पास सिर्फ 6 हजार ट्रेंड नर्सिंग स्टॉफ है। इस महाभियान के लिए शहरी व ग्रामीण क्षेत्र में 18 साल से ऊपर के लोगों का मतदाता सूची से ब्योरा जुटाया जाना है। आबादी व भौगोलिक लिहाज से कई गांवों का क्लस्टर जोन बनेगा। अभियान को शुरू करने से पहले 19 जून तक जागरूकता प्रसार अभियान चलेगा। 21 जून से 30 जून तक ट्रायल होगा। इसके परिणाम जानने के बाद टीकारण की गति तेज की जाएगी।
वैक्सीन स्टोरेज की क्षमता तीन गुना
प्रदेश में योगी सरकार ने कोरोना वैक्सीन के लिए कोल्ड स्टोरेज की क्षमता को बढ़ाने पर विशेष जोर दिया है। प्रदेश में कोरोना वैक्सीन के लिए कोल्ड स्टोरेज की क्षमता अब तीन गुना हो गई है। अभी यहां 90 हजार लीटर कोल्ड स्टोरेज क्षमता को बढ़ाकर सवा दो लाख लीटर किया गया है। यूपी सरकार का दावा है कि 20 जून तक प्रदेश में दो करोड़ 56 लाख से अधिक वैक्सीन डोज दी जा चुकी है। 40 लाख 23 हजार से अधिक लोगों ने वैक्सीन के दोनों डोज प्राप्त कर ली है। 18-44 आयु वर्ग के युवाओं को 58 लाख 28 हजार 992 टीका लगाया जा चुका है, इनमें भी 01 लाख 70 हजार से ज्यादा युवाओं ने वैक्सीन की दोनों डोज ले ली है।

Source link

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments