Tuesday, September 21, 2021
Homeभारतश्रद्धालु न प्रसाद चढ़ा सके,  न ही मिला तुलसी-चरणामृत;  सोशल डिस्टेंसिंग के साथ खड़े होकर किए...

श्रद्धालु न प्रसाद चढ़ा सके,  न ही मिला तुलसी-चरणामृत;  सोशल डिस्टेंसिंग के साथ खड़े होकर किए दर्शन, थर्मल स्क्रीनिंग कर दिया प्रवेश

  • Hindi News
  • Local
  • Devotees Could Neither Offer Prasad, Nor Did They Get Tulsi Charanamrit; Darshan By Standing With Social Distancing, Thermal Screening Done

लंबे लॉकडाउन के बाद सोमवार को पुष्कर स्थित विश्व विख्यात ब्रह्मा मंदिर श्रद्धालुओं के दर्शनार्थ खोला गया। सुबह ब्रह्म मुहूर्त में मंगला आरती के साथ ही श्रद्धालुओं ने कोविड़-19 गाइड़ लाइन की पालना करते हुए सोशल डिस्टेंसिंग के साथ खड़े होकर ब्रह्मा जी के दर्शन किए। श्रद्धालु मंदिर में न तो फूल-प्रसाद चढ़ा सके और न ही उन्हें पुजारी की ओर से तुलसी-चरणामृत दिया गया।

मंदिर में प्रवेश से पहले सभी श्रद्धालुओं की थर्मल स्क्रीनिंग व हैंड़ सेनेटाइज किए गए। इस दौरान अस्थाई मंदिर प्रबंधन कमेटी एवं पुलिस प्रशासन की ओर से माकुल इंतजाम किए गए। कोरोना संक्रमण के चलते मंदिर में दर्शनार्थियों का प्रवेश बंद किया गया था। मंदिर में श्रद्धालुओं की अनुपस्थिति में केवल पुजारी परिवार की ओर से नियमित पूजा-आरती की जा रही थी।

ऐसे की गई थर्मल स्क्रेनिंग

ऐसे की गई थर्मल स्क्रेनिंग

मंगला आरती के साथ खोले गए कपाट
सोमवार की अल सुबह 5 बजे ब्रह्म मुहूर्त में होने वाली मंगला आरती के साथ ब्रह्मा मंदिर के कपाट खोलेे गए। इसी के साथ मंदिर में श्रद्धालुओं केे दर्शन का सिलसिला शुरू हो गया। श्रद्धालु सोशल डिस्टेंसिंग की पालना करते हुए बारी-बारी से मंदिर में दर्शन करने पहुंचे। दूर-दराज से आए तीर्थ यात्रियों के साथ-साथ नगर वासियों ने भी लंबे समय बाद ब्रह्मा जी के दर्शन किए। श्रद्धालुओं की आवक के साथ ही बीते करीब ढ़ाई महिनें से सूने मंदिर में फिर से रौनक लौट आई तथा मंदिर में चहल-पहल देखी गई।

सोशल डिस्टेंसिंग के साथ लगी कतार

सोशल डिस्टेंसिंग के साथ लगी कतार

मंदिर खुलने से पहले ही दर्शन के लिए पहुंचे
ढ़ाई महिनें के अंतराल के बाद मंदिर खुलने को लेकर श्रद्धालुओं में खासा उत्साह था। आलम यह है कि उत्साहित श्रद्धालु सुबह 5 बजे मंदिर खुलने से पहले ही पहुंच गए। श्रद्धालुओं ने बारी-बारी से मंदिर में प्रवेश कर ब्रह्मा जी के दर्शन किए। बिना मास्क आने वाले श्रद्धालुओं को मंदिर के प्रवेश की अनुमति नहीं दी गई।

न फूल-प्रसाद चढ़ा और न ही घंटे गूंजे
मंदिर में न तो श्रद्धालु फूल-प्रसाद चढ़ा सके और न ही घंटे बजा सके। श्रद्धालुओं को तुलसी-चरणामृत भी नहीं मिला। मंदिर में प्रवेश से पहले मंदिर के कर्मचारियों ने सभी श्रद्धालुओं की थर्मल स्क्रीनिंग की तथा उनके हाथ सेनेटाइज कराए। मंदिर कार्मिकों ने माइक से श्रद्धालुओं को कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए जारी किए गए दिशा-निर्देशों की जानकारी देते हुए नियमों की पालना करने की अपील की।

भक्तों की दर्शनों के लिए लगी कतार

भक्तों की दर्शनों के लिए लगी कतार

जगी उम्मीद : पुरोहितों व दुकानदारों के खिले चेहरें
लंबे लॉकडाउन के बाद ब्रह्मा मंदिर खुलने के साथ ही तीर्थ पुरोहितों व स्थानीय दुकानदारों में खुशी की लहर छा गई। लॉकडाउन के कारण आर्थिक तंगी से जूझ रहे पुरोहितों व दुकानदारों का कहना है कि मंदिर खुलने से श्रद्धालुओं की आवक बढ़ेगी। जिससे बिगड़ी अर्थ व्यवस्था पटरी पर आ सकेगी। पुरोहितों व दुकानदारों की मंदिर के दर्शन व पुष्कर सरोवर की पूजा करने के लिए आने वाले तीर्थ यात्रियों पर निर्भर है।

पुष्कर ब्रह्मा मंदिर में आरती

पुष्कर ब्रह्मा मंदिर में आरती

Source link

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments