Monday, September 20, 2021
Homeटेक्नोलॉजीमाइक्रोसॉफ्ट के क्लाउड प्लेटफॉर्म में बग ढूंढकर 22 लाख का इनाम जीता,...

माइक्रोसॉफ्ट के क्लाउड प्लेटफॉर्म में बग ढूंढकर 22 लाख का इनाम जीता, यूट्यूब की मदद से प्रोग्रामिंग लैंग्वेज सीखीं

  • Hindi News
  • Tech auto
  • Indian Girl Gets Over Rs 22 Lakh Bounty From Microsoft For Finding Bug In Azure Cloud System

कई बड़ी टेक कंपनियां अपने सिस्टम में बग ढूंढने पर मोटी रकम इनाम के तौर पर ऑफर कर दी है। अब ऐसा ही मामला माइक्रोसॉफ्ट से जुड़ा सामने आया है। माइक्रोसॉफ्ट के प्लेटफॉर्म में बग ढूंढने की वजह से दिल्ली में रहने वाली 20 साल की अदिति सिंह को 30 हजार डॉलर (लगभग 22 लाख रुपए) से ज्यादा का इनाम मिला है। अदिति साइबर सिक्योरिटी एनालिस्ट हैं। उनकी लाइफ का ये सबसे बड़ा इनाम भी है।

अदिति ने माइक्रोसॉफ्ट के Azure क्लाउड प्लेटफॉर्म में एक RCE (रिमोट कोड एग्जीक्यूशन) बग पाया था, जो सिक्योरिटी को गंभीर रूप से प्रभावित कर सकता था। हालांकि, इस बग के बारे में ज्यादा जानकारी सामने नहीं आई है। अदिति को फेसबुक, माइक्रोसॉफ्ट और गूगल के हॉल ऑफ फेम में भी जगह मिली है।

MapMyIndia में साइबर सिक्योरिटी की जॉब कर रहीं
अदिति पिछले एक साल से बग बाउंटी हंटिंग कर रही हैं। स्कूल से पढ़ाई पूरी होने के बाद उन्होंने इंदिरा गांधी नेशनल ओपन यूनिवर्सिटी (IGNOU) में BCA की डिग्री कोर्स में दाखिला लिया और इसके साथ ही MapMyIndia में एक साइबर सिक्योरिटी एनालिस्ट के तौर पर काम करना शुरू कर दिया। उन्होंने जावा स्क्रिप्ट, MySQL और अन्य प्रोग्रामिंग लैंग्वेज को गूगल पर सर्च करके और यूट्यूब पर वीडियो देखकर सीखा। उन्होंने बग बाउंटी को भी सीखा।

इंटरनेट की मदद से कई चीजें सीखीं
अदिति बताती हैं कि प्रोग्रामिंग और साइबर सिक्योरिटी के बारे में सीखने के लिए कम्प्यूटर साइंस के डिग्री की जरूरत नहीं होती है। ऑनलाइन कई तरह के रिसोर्सेज उपलब्ध हैं और बग बाउंटी के लिए IIT से होने की जरूरत नहीं। अगर कोई भी एथिकल हैकिंग के बारे में सीखना चाहता है तो वो इंटरनेट पर चीजें सर्च कर सकता है और Javascript या फिर Python से शुरुआत कर सकता है। बाद में एथिकल हैकिंग को लेकर सर्टिफिकेट कोर्स कर सकता है।

फेसबुक में भी बग ढूंढा था
अदिति टिकटॉक और फेसबुक में भी बग्स खोज चुकी है। इसके लिए फेसबुक ने उन्हें 7,500 डॉलर (लगभग 5.40 लाख रुपए) का इनाम भी दिया था। अलग-अलग बाउंटी प्रोग्राम से वो अब तक लगभग 44 लाख रुपए कमा चुकी हैं। टेक कंपनियां बाउंटी प्रोग्राम का आयोजन करती रहती है। ऐसे में अगर किसी खामी की रिपोर्ट यूजर्स कंपनी को सब्मिट करते हैं और वो खामी सच में पाई जाती है तो यूजर्स को इनाम दिया जाता है।

Source link

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments