Monday, August 2, 2021
Homeभारतअगले साल भारतीय नौसेना के बेड़े में शामिल होगा पहला स्वदेशी एयरक्राफ्ट...

अगले साल भारतीय नौसेना के बेड़े में शामिल होगा पहला स्वदेशी एयरक्राफ्ट कैरियर INS विक्रांत, रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने लिया जायजा

  • Hindi News
  • National
  • Indigenous Aircraft Carrier INS Vikrant Will Be Included In The Navy’s Fleet Next Year, Defense Minister Rajnath Singh Took Stock
INS विक्रांत भारत का पहला स्वदेशी एयरक्राफ्ट कैरियर है। इसे भारतीय नौसेना ने तैयार किया है। - Dainik Bhaskar

INS विक्रांत भारत का पहला स्वदेशी एयरक्राफ्ट कैरियर है। इसे भारतीय नौसेना ने तैयार किया है।

भारत समुद्र में जल्द अपनी ताकत बढ़ाने जा रहा है। अगले साल तक भारत की नौसेना के बेड़े में स्वदेशी एयरक्राफ्ट कैरियर INS विक्रांत शामिल कर लिया जाएगा। भारतीय नौसेना इसे तैयार कर रही है। इस स्वदेशी एयरक्राफ्ट कैरियर का शुक्रवार को रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने भी जायजा लिया।

रक्षामंत्री स्वदेशी एयरक्राफ्ट कैरियर का जायजा लेने पहुंचे।

रक्षामंत्री स्वदेशी एयरक्राफ्ट कैरियर का जायजा लेने पहुंचे।

उन्होंने कहा, ‘इस युद्धपोत की शुरुआत आजादी की 75वीं वर्षगांठ को एक सही मायने में उपहार होगा। इसके शामिल होने से समुद्र में नौसेना की ताकत बढ़ जाएगी।’ इस दौरान रक्षामंत्री के साथ एडमिरल करमबीर सिंह और नौसेना के अफसर मौजूद रहे।

जल्द होगा परीक्षण
युद्धपोत INS विक्रांत का निर्माण अपने अंतिम चरण में है। कुछ महीनों में इसका परीक्षण शुरू हो जाएगा। इसको भारतीय नौसेना के डायरेक्टरेट ऑफ नेवल डिजाइन (DND) ने डिजाइन किया है और इसे कोच्चि स्थित कोचीन शिपयार्ड में बनाया जा रहा है। ये अपना बेसिन ट्रायल नवंबर 2020 को पूरा कर चुका है।

कोच्चि स्थित सदर्न नेवल कमांड पहुंचे रक्षामंत्री राजनाथ सिंह नौसेनिकों से चर्चा करते हुए।

कोच्चि स्थित सदर्न नेवल कमांड पहुंचे रक्षामंत्री राजनाथ सिंह नौसेनिकों से चर्चा करते हुए।

रक्षामंत्री बोले- भारत का सबसे बड़ा नौसेना अड्डा होगा
रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने अधिकारियों को संबोधित किया। इस दौरान उन्होंने कहा कि इस प्रोजेक्ट के पूरा होने के बाद भारत की रक्षा तैयारियां मजबूत होंगी। साथ ही व्यापारिक, अर्थव्यवस्था के स्तर पर मानवीय सहायता भी मजबूत होगी। कहा जा रहा कि यह भारत का सबसे बड़ा नौसेना अड्डा होगा, लेकिन हमारी इच्छा है कि यह एशिया का सबसे बड़ा अड्डा होना चाहिए। जल्द इसको लेकर बजट आवंटन का प्रयास किया जाएगा।

Source link

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments