Tuesday, September 21, 2021
Homeदुनियाइटली की लिपस्टिक वैली की रंगत फिर सुर्ख होने लगी, महामारी की...

इटली की लिपस्टिक वैली की रंगत फिर सुर्ख होने लगी, महामारी की मंदी के बाद सौंदर्य प्रसाधनों की बिक्री पटरी पर आने लगी

  • Hindi News
  • International
  • Italy’s Lipstick Valley Began To Shine Again, After The Recession Of The Epidemic, Cosmetics Sales Started Coming Back On Track
मिलान के पास स्थित कंपनियों में विश्व का मेकअप का 55% सामान बनता है। - Dainik Bhaskar

मिलान के पास स्थित कंपनियों में विश्व का मेकअप का 55% सामान बनता है।

बीस साल पहले सौंदर्य प्रसाधन बनाने वाली कंपनी एस्टी लाउडर के वारिस लियोनार्ड लाउडर ने कहा था कि आर्थिक संकट के बीच कंज्यूमर छोटे-छोटे शौक पर खर्च करना पसंद करते हैं। उन्होंने इसे लिपस्टिक प्रभाव कहा था। लेकिन, इटली की लिपस्टिक वैली में महामारी के दौरान खरीदारों की कमी रही। यहां दुनिया का आई शैडो, मस्कारा, फेसपाउडर, लिपस्टिक और सजने-संवरने का 55% सामान बनता है। पिछले साल इटली के मेकअप निर्माताओं की बिक्री 13% कम हो गई थी। अब यह बाजार जोर पकड़ रहा है।

विश्व में कांट्रेक्ट पर मेकअप का सामान बनाने वाली सबसे बड़ी कंपनी इंटरकोज के डेरिओ फेरारी का कहना है, जब जून में लोगों के चेहरे से मास्क उतर जाएंगे तब लोग खरीदारी के लिए उतावले होंगे। लिपस्टिक वैली की कंपनियों को लंबे समय से चल रहे दो अन्य ट्रेंड से भी फायदा होगा-इमेज के प्रति सजग एशियाई खरीदार और सीधे कंज्यूमर से जुड़े मेकअप ब्रांड ।

मिलान से कुछ दूर मध्यकाल के शहर क्रीमा (लिपस्टिक वैली) में नया औद्योगिक क्षेत्र उभरा है। इंटेसा सेनपावलो बैंक के अनुसार यहां 2012 से 2017 के बीच लगभग 350 कॉस्मेटिक्स कंपनियां बनी हैं। हालांकि, फ्रांस स्किन केयर और बॉडी लोशन सहित अधिक सौंदर्य प्रसाधन बनाता है लेकिन इटली ने मेकअप में अलग जगह बनाई है।

लिपस्टिक वैली में मेकअप सेक्टर की एक हजार से अधिक कंपनियां हैं। इनका सालाना कारोबार एक लाख करोड़ रुपए से अधिक है। फेरारी को भरोसा है कि उनकी कंपनी जल्द ही गिरावट की भरपाई करेगी। मार्च में बिक्री महामारी से पहले 2019 के मुकाबले अधिक रही।

बर्नस्टीन कंपनी के ब्रोकर लुका सोल्का कहते हैं सोशल मीडिया और डिजिटल पहुंच ने सौंदर्य के कारोबार में विविधता पैदा की है। फेरारी की नजर एशिया पर है। इनवेस्टमेंट बैंक गोल्डमैन सॉक्स को उम्मीद है कि अकेले चीन में 2019 से 2025 के बीच कॉस्मेटिक्स की बिक्री दोगुनी बढ़कर 10.71 लाख करोड़ रुपए हो जाएगी।

Source link

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments