Sunday, July 25, 2021
Homeभारतडॉक्टर बोले- ऐसी हालत में कोई युवा 1 घंटा नहीं जी सकता,...

डॉक्टर बोले- ऐसी हालत में कोई युवा 1 घंटा नहीं जी सकता, फ्लाइंग सिख तो 10 से 12 घंटे जिंदगी की जंग लड़ते रहे

  • Hindi News
  • National
  • Milkha Singh Passes Away; 24 Minute Before The Death Photo Of Milkha Singh

ये तस्वीर दुनियाभर में फ्लाइंग सिख के नाम से मशहूर पद्मश्री मिल्खा सिंह के निधन से 24 मिनट पहले की है। कोरोना से उभरने के बाद दोबारा बीमार हुए मिल्खा सिंह ने शुक्रवार देर रात 11:24 बजे अंतिम सांस ली। इससे पहले उन्हें 16 जून को रिपोर्ट निगेटिव आने पर PGI के एडवांस कार्डियक सेंटर भर्ती कराया गया था। यहां उनकी हालात स्थिर बनी हुई थी।

17 जून को उन्हें बुखार आया। 18 जून की सुबह ऑक्सीजन लेवल गिर गया। शाम 4 बजे ऑक्सीजन सेचुरेशन 80 से 70 रह गया। ब्लड प्रेशर लेवल 70/30 हो गया। शाम 6 बजे बीपी और गिर गया। रात 11 बजे ब्लड प्रेशर लेवल 39/20 रह गया था। डॉक्टरों का कहना है कि उनके फेफड़े 80% डैमेज हो गए थे।

डॉक्टर बोले- अंतिम सांस तक जीवन मौत से लड़ाई लड़ी
बुधवार को ही सांस लेने में बहुत ज्यादा दिक्कत हो रही थी। उनकी मौत की वजह भी यही रही। डॉक्टर के मुताबिक ऐसी हालत में कोई युवा भी एक घंटा जीवित नहीं रह सकता, लेकिन दिग्गज धावक ने अंतिम सांस तक जीवन और मौत की लड़ाई लड़ी।

PGI में लिफ्ट से फ्लाइंग सिख के शव को नीचे ले जाते हुए कर्मचारी। साथ में मिल्खा सिंह के बेटे जीव मिल्खा सिंह (काली टी शर्ट में) भी थे।

PGI में लिफ्ट से फ्लाइंग सिख के शव को नीचे ले जाते हुए कर्मचारी। साथ में मिल्खा सिंह के बेटे जीव मिल्खा सिंह (काली टी शर्ट में) भी थे।

कोरोना वैक्सीन नहीं लगवाई थी, कहते थे- अब जरूरत नहीं
इलाज कर रहे डॉक्टर ने बताया कि सुबह तक मिल्खा सिंह बात कर रहे थे। डॉक्टर ने उनसे नाश्ता करने को कहा तो उन्होंने डॉक्टर से कहा कि पहले तुम भी चाय-कॉफी पी लो। उनकी बेटी के साथ आए परिवार के ड्राइवर ने बताया कि बाबू जी को घर के लोग वैक्सीन लगवाने को कहते थे, लेकिन वे लगवाने से इनकार कर देते थे। कहते थे, अब जरूरत नहीं है।

31 दिनों तक चली जिंदगी और मौत से रेस

  • 19 मई: शाम की सैर से लौटने के बाद टेस्ट पॉजिटिव आया। घर में काम करने वाले कुक से वे पॉजिटिव हुए।
  • 24 मई: ऑक्सीजन का स्तर कम होने और कोविड निमोनिया पाए जाने पर फोर्टिस अस्पताल में भर्ती कराया गया।
  • 26 मई: पत्नी निर्मल कौर के साथ आईसीयू से शिफ्ट किया गया, पत्नी भी पॉजिटिव आई थी। दोनों ऑक्सीजन सपोर्ट पर थे।
  • 30 मई: मिल्खा को परिवार के अनुरोध पर अस्पताल से छुट्टी मिली, वे घर पर ऑक्सीजन सपोर्ट के साथ आइसोलेशन में रहे।
  • 3 जून: ऑक्सीजन लेवल गिरना शुरू होने के बाद दोपहर 3:35 बजे पीजीआई के आईसीयू में भर्ती कराया गया।
  • 13 जून: पत्नी निर्मल कौर को कोविड की वजह से खो दिया।
  • 16 जून: कोविड ICU से नेगेटिव रिपोर्ट के बाद मेडिसन आईसीयू में भर्ती किया गया। पहली बार रिपोर्ट नेगेटिव आई थी।
  • 18 जून: मिल्खा सिंह का ऑक्सीजन लेवल गिर गया और नाजुक हालत में उनका इलाज शुरू किया गया।

Source link

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments