Tuesday, July 20, 2021
Homeभारतनेपाल और बिहार में भारी बारिश से बने बाढ़ के हालात, कोसी...

नेपाल और बिहार में भारी बारिश से बने बाढ़ के हालात, कोसी नदी खतरे के निशान से ऊपर बह रही; वाराणसी में सड़कों और अस्पतालों में भराया पानी

 

  • Hindi News
  • National
  • Monsoon, Rain And Weather Forecast Today News And Updates 18 June 2021|Due To Rain In Nepal Bihar Flood Threat, Kosi Above Danger Mark, UP Varanasi Roads And Hospitals Filled With Water

 

 

  •  
  •  
  •  

नेपाल और बिहार के कई इलाकों में पिछले कुछ दिनों से हो रही भारी बारिश से बाढ़ की स्थिति बनी हुई है। यहां के मुजफ्फरपुर, पश्चिमी चंपारण, गोपालगंज के कई इलाकों में पानी भर गया है। गंडक, बूढ़ी गंडक के बाद अब कोसी नदी भी खतरे के निशान से 5 cm ऊपर बह रही है। इधर, गंगा समेत कई नदियों का जलस्तर भी लगातार बढ़ रहा है। हालांकि, वाल्मीकिनगर में गंडक का जलस्तर कम हो रहा है। 24 घंटे में उसमें लगभग 1.70 लाख क्यूसेक की कमी आई।

इधर, देश में ओडिशा, पश्चिम बंगाल, झारखंड, पूर्वी उत्तर प्रदेश, कोंकण, गोवा और कर्नाटक के तटीय इलाकों में भारी बारिश हो सकती है। सिक्किम, पूर्वोत्तर के राज्यों, केरल, मध्यप्रदेश और विदर्भ के इलाकों में मध्यम से भारी बारिश होने की संभावना है। उत्तराखंड, हिमाचल प्रदेश, राजस्थान, गुजरात क्षेत्र, महाराष्ट्र सहित कुछ इलाकों में हल्की बारिश संभव है। वहीं, पंजाब, दिल्ली, हरियाणा में भी हल्की बारिश हो सकती है।

बिहार: पश्चिमी चंपारण के इलाकों में संपर्क टूटा; गंगा का जलस्तर बढ़ा
प्रदेश में बने बाढ़ के हालात की वजह से पश्चिमी चंपारण के कई जिले का संपर्क टूट गया है। यहां तेज बारिश के चलते सड़क बह गई। दहशत के चलते लोग इलाके से पलायन कर रहे हैं। नरकटियागंज के 5 प्रखंडों के 42 गांव और बगहा के 7 प्रखंडों में 85 गांव बाढ़ प्रभावित हैं। मुजफ्फरपुर में भी बूढ़ी गंडक का जलस्तर रिकॉर्ड 2 मीटर और गंडक का जलस्तर 1 मीटर 40 cm बढ़ गया। बागमती का जलस्तर कटौझा में खतरे के निशान से 2 मीटर नीचे स्थिर था।

गंगा नदी का जलस्तर भी लगातार बढ़ रहा है। यहां बक्सर, पटना, मुंगेर, भागलपुर में वृद्धि देखी गई है। पटना के दीघा में इसके जलस्तर में पिछले 24 घंटे में 65 cm, गांधीघाट पर 58 cm और हाथीदह में 76 cm, मुंगेर में 1.05 cm, भागलपुर में 34 cm की बढ़ोतरी हुई है।

तस्वीर राजधानी पटना के पॉर्श इलाके की है। यहां तेज बारिश से सड़क पर पानी भरा गया।

तस्वीर राजधानी पटना के पॉर्श इलाके की है। यहां तेज बारिश से सड़क पर पानी भरा गया।

राजस्थान: जैसलमेर, बीकानेर, बाड़मेर में जमकर बरसा पानी
राजस्थान में शुक्रवार को जैसलमेर समेत कई इलाकों में हल्की बारिश हो सकती है। मौसम विभाग ने पश्चिमी राजस्थान में 18 जून को 30-50 KM गति से तेज हवाएं चलने की चेतावनी जारी की है। साथ ही आज उदयपुर, अजमेर संभाग के कई जिलों में बारिश होने की संभावना है। राज्य में अगले 3-4 दिन अलग-अलग जगहों पर प्री-मानूसन की बारिश होने की भी संभावना मौसम विभाग ने जताई है।

इससे पहले गुरुवार को राज्य के पश्चिमी इलाके के जैसलमेर, बाड़मेर, बीकानेर में बारिश हुई। बाड़मेर के शिव, चोहटन सहित कई जगहों पर तेज बारिश हुई। जैसलमेर जिले और उसके रेगिस्तानी इलाकों में भी तेज बारिश से कई जगहों तो नदियां जैसी बहने लगी। बीकानेर जिले में भी पाकिस्तान से लगते सीमावर्ती क्षेत्रों में अच्छी बारिश हुई, जिसके बाद इन जिलों में तापमान 2-3 डिग्री तक नीचे आ गया।

इधर, दक्षिण राजस्थान के कोटा, चित्तौड़गढ़, राजसमंद, भीलवाड़ा, उदयपुर और सिरोही के कुछ हिस्सों में बादल छाए रहे। बांसवाड़ा में तड़के तेज आंधी के साथ बारिश हुई। यहां शहर की सिंधी कॉलोनी में मकान के बाहर नीम के पेड़ की बड़ी शाखा टूटकर गिर गई। तेज आंधी के कारण यहां कई जगह बिजली पोल भी गिर गए।

राजस्थान बज्जू. रणजीतपुरा इलाके में बारिश से खेत में पानी भर गया।

राजस्थान बज्जू. रणजीतपुरा इलाके में बारिश से खेत में पानी भर गया।

उत्तरप्रदेश: वाराणसी में तेज बारिश से सड़कों और अस्पताल में भराया पानी

प्रदेश में आज से फिर बादल सक्रिय होने की संभावना है। मौसम विभाग के मुताबिक, पूर्वी उत्तर प्रदेश और आसपास इलाकों के कई जिलों में अगले 1 से 2 दिन तक बारिश हो सकती है। प्रदेश के महाराजगंज, सिद्धार्थ नगर, गोंडा, बलरामपुर, श्रावस्ती, बहराइच, लखीमपुर खीरी, सोनभद्र, मिर्जापुर, वाराणसी, संत रविदास नगर, आजमगढ़, मऊ, बलिया, देवरिया, गोरखपुर, संत कबीर नगर, बस्ती, कुशीनगर, बाराबंकी, सुल्तानपुर, अयोध्या तथा आंबेडकर नगर और आसपास के क्षेत्रों में भारी बारिश की संभावना है।

इधर, वाराणसी में बारिश जारी है। यहां गुरुवार तक 92 mm बारिश दर्ज की गई है। भारी बारिश से सीवर लाइन और नाले-नालियां चोक हो गए। सड़कों, BHU अस्पताल परिसर, मोहल्लों, कैंट रेलवे स्टेशन और कैंट रोडवेज में पानी भरा गया।

झमाझम हुई बारिश के बाद वाराणसी में सड़कें पानी से भरा गईं।

झमाझम हुई बारिश के बाद वाराणसी में सड़कें पानी से भरा गईं।

कुशीनगर में लगातार बारिश से शहर और गांव के इलाकों में पानी भरा गया। हालांकि, इलाके में गुरुवार को बारिश नहीं हुई, लेकिन जलभराव से निजात नहीं मिल पाई है। देर रात NDRF ने रेस्क्यू ऑपरेशन किया। NDRF के अधिकारी पीएल शर्मा ने बताया कि बीती रात उन्हें 100 लोगों के पानी के बीच फंसे होने की जानकारी मिली थी। वे सभी नाव पर सवार होकर सुरक्षित स्थान पर जा रहे थे, लेकिन अचानक इंजन खराब होने से फंस गई। NDRF की टीम ने रेस्क्यू ऑपरेशन चलाकर सभी लोगों को बचाया।

कुशीनगर में बीती रात 100 से ज्यादा लोग में पानी में फंस गए थे। NDRF ने रेस्क्यू कर बचाया।

कुशीनगर में बीती रात 100 से ज्यादा लोग में पानी में फंस गए थे। NDRF ने रेस्क्यू कर बचाया।

मध्यप्रदेश: बैतूल में तवा डैम में असर, आज कई इलाकों में होगी बारिश
मौसम विभाग ने मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल समेत कई इलाकों में बारिश की संभावना जताई है। इससे पहले गुरुवार को राजधानी में दिनभर मौसम खुला रहा। रात को शहर बारिश से भीगा। गुरुवार को दिन का तापमान 34.8 डिग्री दर्ज किया गया। यह सामान्य से 2 डिग्री कम रहा। रात 8 बजे के बाद शहर के कई इलाकों में बारिश हुई। छतरपुर में देर रात में रिमझिम बारिश हुई, वही तेज आंधी चलने से घुवारा क्षेत्र में करीब 100 से ज्यादा पेड़ धरासायी हो गए।

मानसून ग्वालियर में कब तक दस्तक देगा, इसका सही अनुमान मौसम विभाग भी नहीं कर पा रहा है। मौसम विभाग का कहना है कि तेज गति से आ रही पश्चिमी हवा ने बंगाल की खाड़ी में मानसून सिस्टम बनने से रोक दिया है।

सागर में एक बार देर रात फिर अच्छी बारिश हुई। फिर भी उमस बरकरार है। गुरुवार को भी शाम 5.30 बजे तक 1.0 मिमी. बारिश रिकॉर्ड में ली गई है। अभी तक 109.9 मिमी. बारिश हो चुकी है। बैतूल जिले और पहाड़ी क्षेत्रों में हो रही बारिश का असर नर्मदापुरम संभाग के तवा डैम दिखाई दे रहा है। डैम में तेजी से पानी का जलस्तर बढ़ रहा है। दो दिन में 2.8 फीट पानी बढ़ गया है। डैम में हर घंटे पानी बढ़ रहा।

राजधानी भोपाल में मानसूनी बारिश का सिलसिला लगातार जारी है।

राजधानी भोपाल में मानसूनी बारिश का सिलसिला लगातार जारी है।

छत्तीसगढ़: 20 जिलों में आंधी-बारिश की संभावना, बिजली गिरने की भी चेतावनी
प्रदेश के कई हिस्सों में छिटपुट बरसात हो रही है। मौसम विभाग ने शुक्रवार को 20 जिलों में गरज-चमक के साथ अंधड़ चलने की संभावना जताई है। इन जिलों में कुछ स्थानों पर आकाशीय बिजली गिरने की चेतावनी भी दी है।

इसके अलावा एक ऊपरी हवा का चक्रवात गंगेटिक पश्चिम बंगाल और उससे लगे बांग्लादेश के ऊपर 3.1 किलोमीटर से 5.8 किलोमीटर ऊंचाई तक स्थित है। वहीं एक निम्न दाब का क्षेत्र पूर्वी उत्तर प्रदेश और उससे लगे हुए बिहार के ऊपर 3.1 किलोमीटर ऊंचाई तक स्थित है। इसके साथ ही एक द्रोणिका दक्षिण पंजाब से उत्तर पश्चिम बंगाल की खाड़ी तक हरियाणा, उत्तर प्रदेश, मध्य बिहार, दक्षिण असम, उत्तर गंगेटिक पश्चिम बंगाल तक 0.9 किलोमीटर ऊंचाई तक विस्तारित है। इसके प्रभाव से प्रदेश के अधिकांश स्थानों पर हल्की से मध्यम स्तर की बरसात हो सकती है।

दिल्ली: NCR- दिल्ली में तेज बारिश से गर्मी और उमस से राहत
दिल्ली में भी आज हल्की बारिश हो सकती है। इससे पहले दिल्ली- NCR में तेज बारिश से गर्मी और उमस से लोगों को राहत मिली। दिल्ली के आईटीओ, राजीव चौक, राष्ट्रपति भवन, इंडिया गेट, बुद्धा जयंती पार्क सहित राजधानी क्षेत्र में बारिश हुई थी। मौसम विभाग ने आने वाले 48 घंटे में दिल्ली-एनसीआर में तेज हवाओं और बारिश की संभावना जताई थी।

मौसम विभाग ने कहा है कि वेस्टर्न डिस्टरबेंस की वजह से राजधानी दिल्ली और आसपास मौसम करवट बदल सकता है। मौसम विभाग के मुताबिक, दिल्ली में अभी मानसून को पहुंचने में देरी है, लेकिन उससे पहले की बारिश मानी जा सकती है। भारत मौसम विज्ञान विभाग के अनुसार, न्यूनतम तापमान गुरुवार को सामान्य से दो डिग्री कम 26.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया और अधिकतम तापमान के 37 डिग्री सेल्सियस के आसपास रहने का अनुमान है।

दिल्ली के आईटीओ, राजीव चौक, राष्ट्रपति भवन, इंडिया गेट, बुद्धा जयंती पार्क सहित राजधानी क्षेत्र में बारिश हुई थी।

दिल्ली के आईटीओ, राजीव चौक, राष्ट्रपति भवन, इंडिया गेट, बुद्धा जयंती पार्क सहित राजधानी क्षेत्र में बारिश हुई थी।

महाराष्ट्र: मुंबई में आज हो सकती मूसलाधार बारिश, पंचगंगा नदी उफान पर
मौसम विभाग (IMD) ने मुंबई (Mumbai) में आज और कल मूसलाधार बारिश होने का अंदेशा जताया है। कोल्हापुर में पंचगंगा नदी फिर से उफान पर आ चुकी है। कई गांवों में पानी भरने का खतरा पैदा हो गया है। गुरुवार की सुबह भी काफी तेज बारिश हुई। मुंबई में हल्की से मध्यम बारिश की संभावना है।

स्काईमेट (skymet) ने यह भी कहा कि, अगले दो से तीन दिनों में मुंबई (mumabi rains) में रविवार और सोमवार की तुलना में बारिश बढ़ेगी। वर्तमान में, दक्षिण कोंकण में बने बादलों की बेसिन स्थिति के उत्तर की ओर थोड़ा शिफ्ट होने की संभावना है। स्काईमेट के उपाध्यक्ष महेश पलावत ने कहा कि, मुंबई में बारिश थोड़ी बढ़ सकती है।

मुंबई में बुधवार को जमकर बारिश हुई थी। इसके बाद सड़कों पर पानी भरा गया था।

मुंबई में बुधवार को जमकर बारिश हुई थी। इसके बाद सड़कों पर पानी भरा गया था।

 

 

Source link

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments