Monday, August 2, 2021
HomeमनोरंजनOTT के अपने स्टार्स हैं, लेकिन सब्सक्रिप्शन बढ़ाने के लिए अब इंडस्ट्री...

OTT के अपने स्टार्स हैं, लेकिन सब्सक्रिप्शन बढ़ाने के लिए अब इंडस्ट्री के सुपरस्टार्स के साथ ऊंची कीमतों पर डील

  • मनोज बाजपेयी फैमिली मैन-2 के बाद 20 करोड़ तक पहुंचे
  • 10 साल बाद का सोचने वाले ओटीटी प्लेटफॉर्म्स अभी मुनाफे के मूड में नहीं

भारत में अब ओटीटी का नेक्स्ट लेवल का गेम शुरू हो रहा है। इस बड़े बाजार में पैठ बनाने के लिए बॉलीवुड के सुपरस्टार्स को मुंह मांगे पैसे दिए जा रहे हैं। अजय देवगन को एक वेब सीरीज के लिए 125 करोड़ के ऑफर की चर्चा है। इससे पहले अक्षय कुमार को भी 90 करोड़ का ऑफर मिल चुका है।

दूसरी ओर मनोज बाजपेयी जैसे स्टार को फैमिली मैन-2 के बाद अब 20-22 करोड़ तक का ऑफर दिए जाने की खबर है। ऐसा अंदाजा लगाया जा रहा है कि ओटीटी को अब अच्छे काम करने वाले स्टार के साथ-साथ बॉलीवुड के स्टार्स की भी जरूरत महसूस होने लगी है।

इस सारे घटनाक्रम के पीछे एक तर्क यह भी है कि ओटीटी में भी बॉलीवुड जैसा स्टार सिस्टम शुरू हो जाएगा, लेकिन कुछ विश्लेषकों का मानना है कि ओटीटी बॉलीवुड के मुकाबले डिस्ट्रीब्यूशन चैनल, प्रोजेक्ट अप्रूवल और पेमेंट सिस्टम के मामले में बहुत ही अलग हैं। इसलिए यहां स्टार सिस्टम हावी नहीं हो सकता।

रेट के हिसाब से स्ट्रैटजी

  • देश में ओटीटी के पेड सब्सक्राइबर्स 3 से 5 करोड़ के बीच हैं। आईपीएल जैसे एक स्पोर्ट्स इवेंट के वक्त संख्या बढ़ जाती है। इसी वजह से डिज्नी हॉटस्टार सबसे टॉप पर है।
  • असली लड़ाई जनरल एंटरटेनमेंट में होगी। इसके लिए एक स्ट्रैटजी सब्सक्रिप्शन रेट की है। जैसे नेटफ्लिक्स ने सिंगल स्क्रीन पर महीने के 199 रुपए वाले प्लान से धमाका कर दिया है।
  • दूसरी ओर अमेजन प्राइम और अब कुछ हद तक हॉटस्टार भी मोबाइल कंपनियों के साथ बंडल पैकेज वाला फॉर्मूला इस्तेमाल करके अपनी व्यूअरशिप बढ़ा रहे हैं।

कंटेंट के हिसाब से स्ट्रैटजी

कंटेंट के हिसाब से स्ट्रैटजी यह है कि अपने ओरिजिनल शोज और फिल्म्स बढ़ाते जाना। दूसरी बड़ी स्ट्रैटजी है- बॉलीवुड के बड़े स्टार्स को भी इंगेज करना। ये सुपरस्टार कम समय में ज्यादा सब्सक्राइबर दिला सकते हैं।

टीवी में हुआ, अब ओटीटी में दोहराया जाएगा

अमिताभ बच्चन ने केबीसी के जरिए सोनी टीवी के लिए गेम बदल दिया था। सलमान ‘बिग बॉस’ लेकर आए और आमिर ने ‘सत्यमेव जयते’ किया। अब ओटीटी में भी स्टार पॉवर का गेम शुरू होने जा रहा है। अजय देवगन हॉटस्टार की ‘रुद्र’ वेब सीरीज में आ रहे हैं। अक्षय कुमार की ‘दी एंड’ अमेजन प्राइम वीडियो पर आएगी।

OTT में अभी बड़े स्टार को मिलते हैं 3 से 7 करोड़

दस एपिसोड के लिए ओटीटी के मध्यम कद के स्टार को 1 से 3 करोड़ और ज्यादा बड़े स्टार को 3 से 7 करोड़ मिलते हैं। प्रोड्यूसर, प्लेटफॉर्म और स्क्रीन टाइम के हिसाब से इसमें फर्क हो सकता है।

मनोज बाजपेयी नहीं रहे मिनिमम गाय

मनोज बाजपेयी पहले ही बॉलीवुड में अपनी एक्टिंग का रुतबा जमा चुके थे, लेकिन ‘फैमिली मैन’ से उन्होंने कामयाबी के नए आयाम को छुआ। बाजार के सूत्रों की मानें तो मनोज को अब पूरे सीजन के लिए 20 करोड़ तक ऑफर हो रहे हैं।

सिर्फ पैसे नहीं, नई पहचान के लिए OTT पर आए बॉलीवुड के ये चेहरे

अभी शाहिद कपूर, माधुरी दीक्षित, जूही चावला, आयशा जुल्का, सोनाक्षी सिन्हा और रवीना टंडन की भी वेब सीरीज आ रही हैं। इनके अलावा अनिल कपूर टीवी सीरीज 24 कर चुके हैं। प्रियंका चोपड़ा की ‘क्वांटिको’ भी लोकप्रिय है।

सुपरस्टार तेजी से बढ़ाएंगे सब्सक्राइबर

ट्रेड एनालिस्ट गिरीश वानखेड़े ने कहा कि संजीव कुमार अच्छे एक्टर थे, लेकिन अमिताभ उस जमाने के सुपरस्टार थे। लोग संजीव कुमार की तारीफ करते थे, मगर बॉक्स ऑफिस पर सिक्का अमिताभ का चलता था। ठीक उसी तरह अब ओटीटी में पंकज त्रिपाठी और प्रतीक गांधी जैसे एक्टर स्टार हैं, लेकिन अब ओटीटी को अपने सब्सक्राइबर तेजी से बढ़ाने के लिए अजय देवगन और अक्षय कुमार जैसे सुपरस्टार चाहिए।

सुपरस्टार नो रिस्क फॉर्मूला चुनेंगे

फिल्म की तरह ओटीटी में भी सुपरस्टार नो रिस्क फॉर्मूला ही चुनेंगे। जैसे अजय देवगन की ‘रुद्र’ यूके की ‘लूथर’ का ऑफिशियल रीमेक है। लूथर में इदरीस एल्बा ने जो किरदार निभाया है, वह यहां अजय निभाएंगे। यह सीरीज इतनी सुपरहिट है कि यूके में इसके 5 सीजन आ चुके हैं। मतलब हिट कंटेंट दोहराया जा रहा है।

फंड की कमी नहीं

नेटफ्लिक्स, अमेजन, हॉटस्टार के पास फंड की कमी नहीं है। नेटफ्लिक्स एक महीने में मिनिमम 200 करोड़ के टाइटल रिलीज करता है। उसके लिए भारत के किसी सुपरस्टार को 100-125 करोड़ देना कोई बड़ी डील नहीं है।

भारत में तो पार्टी अभी शुरू हुई है

व्हिसलिंग वुड्स इंटरनेशनल के वाइस प्रेसिडेंट और इमर्जिंग मीडिया हेड चैतन्य चिंचलीकर के मुताबिक पूरे विश्व में बड़े-बड़े फिल्म स्टार्स ओटीटी के लिए काम कर रहे हैं। भारत में यही ग्लोबल ट्रेंड फॉलो हो रहा है। बड़े स्टार्स के अलावा दूसरे एक्टर्स को भी बराबर काम मिलता रहेगा।

एक-दो प्रोजेक्ट से ट्रेंड नहीं बनता

सीनियर ओटीटी प्रोफेशनल अपर्णा आचरेकर के मुताबिक एक-दो प्रोजेक्ट्स से एक ट्रेंड का अनुमान अक्सर सही नहीं होता। अजय देवगन को साइन करना मार्केटिंग के साथ-साथ क्रिएटिव कॉल भी हो सकता है, क्योंकि ‘लूथर’ जैसी सीरीज की रीमेक भी उसी कद की बनानी होगी। स्टार भी ऐसा चाहिए जो इदरीस के समकक्ष खड़ा हो सके।

125 करोड़ का पैकेज हो सकता है

अगर मान लें कि पूरे पांच सीजन का रीमेक होगा तो 50 एपिसोड बनेंगे। साथ में, प्रमोशन और दूसरी चीजें होंगी। यानी 125 करोड़ रुपए की डील एक पूरा पैकेज हो सकती है। अजय देवगन के हॉटस्टार के साथ बहुत अच्छे रिलेशन हैं। उनकी फिल्म ‘भुज’ भी हॉटस्टार पर ही आ रही है। मतलब, इस डील में और बहुत सारे पहलू हो सकते हैं।

क्या क्लिक होगा, किसी को पता नहीं

‘सेक्रेड गेम्स’ की पहली सीरीज सैफ के लिए अच्छी रही, लेकिन बाद में दूसरे सीजन और ‘तांडव’ में वह धमाका नहीं हुआ। दूसरी और पंकज त्रिपाठी के लिए ‘मिर्जापुर’, मनोज बाजपेयी के लिए ‘फैमिली मैन’ और प्रतीक गांधी के लिए ‘स्कैम’ क्लिक हुईं। ये तीनों स्टार अपने-अपने क्षेत्र में इससे पहले भी काम कर चुके थे।

जनरलाइजेशन संभव नहीं

अपर्णा कहती हैं कि ओटीटी में लीड कास्टिंग होता है। कितने एपिसोड हैं, कितने दिन का काम है, आउटडोर है या नहीं, कौन को-स्टार है, कौन प्रोड्यूसर है, कौन सा प्लेटफॉर्म है? यह सारी बातें कास्टिंग और रेट को प्रभावित करती हैं। टेक्निकल क्रू के लिए एक फिक्स्ड रेट हो सकता है, क्रिएटिव में नहीं।

ओटीटी इंडियन नहीं, ग्लोबल प्लेटफॉर्म

सुपरस्टार के जरिए भारत के बाजार में पैठ बनाने की बात कुछ हद तक सही है, मगर यह भी देखना चाहिए कि नेटफ्लिक्स या हॉटस्टार जैसे प्लेटफॉर्म सिर्फ भारत नहीं बल्कि ग्लोबल लेवल के प्लेटफॉर्म हैं। बिग बजट और बड़े स्टार के पीछे ग्लोबल ऑडियंस की भी सोच होती है।

Source link

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments