Monday, August 2, 2021
Homeदुनियाआतंकी हमलों के चलते पोलियो वैक्सीनेशन बंद, 2 लाख 70 हजार फील्ड...

आतंकी हमलों के चलते पोलियो वैक्सीनेशन बंद, 2 लाख 70 हजार फील्ड वर्कर्स की जान खतरे में थी

  • Hindi News
  • International
  • Pakistan Polio | Polio Vaccine Drive Once Again Suspended Indefinitely Due To Terrorist Attack
पाकिस्तान सरकार ने देश में पोलियो वैक्सीनेशन प्रोग्राम सस्पेंड कर दिया है। (फाइल) - Dainik Bhaskar

पाकिस्तान सरकार ने देश में पोलियो वैक्सीनेशन प्रोग्राम सस्पेंड कर दिया है। (फाइल)

पाकिस्तान सरकार ने पोलियो वैक्सीनेशन प्रोग्राम एक बार फिर सस्पेंड कर दिया है। इस बार यह भी नहीं बताया गया है कि इसे फिर शुरू कब किया जाएगा। 2 लाख 70 हजार वर्कर्स इस वैक्सीनेशन प्रोग्राम को अंजाम दे रहे थे। पिछले हफ्ते आतंकी हमले में दो वर्कर्स मारे गए थे। इसके बाद भी कर्मचारियों को जान से मारने की धमकियां मिल रहीं थीं। इन बातों के मद्देनजर सरकार सरकार ने आतंकियों के आगे घुटने टेक दिए और वैक्सीनेशन प्रोग्राम बंद कर दिया। इसके पहले भी कई बार यह पोलियो उन्मूलन कार्यक्रम रद्द किया जा चुका है।

सुरक्षा देने में नाकाम
सरकारी सूत्र दबी जुबान में मान रहे हैं कि आतंकी हमलों का खतरा ज्यादा है, लिहाजा यह ड्राइव सस्पेंड की जा रही है। नेशनल इमरजेंसी ऑपरेशन सेंटर (EOC) ने गुरुवार को सभी जिलों को एक आदेश जारी किया। इसमें कहा गया है कि अगले आदेश तक किसी तरह का पोलियो वैक्सीनेशन कार्यक्रम न चलाया जाए।

इमरान सरकार ने काफी तैयारियों के बाद मई में पोलियो वैक्सीन कार्यक्रम फिर शुरू किया था। इस बार टीम को सुरक्षा देने के भी इंतजाम किए गए थे। लेकिन, आतंकवादी तमाम सुरक्षा इंतजामों पर भारी पड़े। वे पोलियो वैक्सीनेशन प्रोग्राम के शुरू से विरोधी रहे हैं। पिछले हफ्ते दो पोलियो वर्कर्स की हत्या कर दी गई थी। यह हत्यायें इमरान खान के सियासी गढ़ खैबर पख्तूनख्वा के मरदान जिले में हुईं थीं।

सरकार क्या कहती है
‘डॉन न्यूज’ से बातचीत में एक अफसर ने कहा- पेशावर और मरदान में हुए हमलों के बाद वैक्सीन ड्राइव में हिस्सा ले रहे लोग डरे हुए थे। इनमें ज्यादातर महिलाएं हैं। हम नहीं चाहते कि इन पर और हमले हों। इसलिए यह प्रोग्राम अगले आदेश तक बंद रखने का फैसला किया गया है।

पाकिस्तानी मूल के ऑस्ट्रेलियाई पत्रकार कमाल सिद्दीकी ने कहा- यह बेहद शर्मनाक बात है। पाकिस्तान अब भी पोलियो से जूझ रहा है। हम हालात को सुधारने के बजाए चंद लोगों के आगे हथियार डाल रहे हैं। इससे भी ज्यादा शर्म की बात यह है कि सरकार भी इन मजहबी कट्टरपंथियों से निपटने में नाकाम साबित हुई है।

कितने बुरे हालात
देश को पोलिया मुक्त बनाने के प्रोग्राम के प्रमुख राना मुहम्मद सफदर के मुताबिक- पोलियो वर्कर्स कोरोना महामारी की रोकथाम से जुड़े काम भी कर रहे थे। इनमें से 11 हजार को पिछले साल मार्च में हटा दिया गया था।

डब्ल्यूएचओ की 20 जनवरी 2020 को जारी एक रिपोर्ट के मुताबिक, दुनिया के सिर्फ तीन देशों में पोलियो के केस सामने आ रहे हैं और ये बेहद गंभीर चिंता की बात है। पाकिस्तान के अलावा अफगानिस्तान और नाइजीरिया में पोलियो केस सामने आ रहे हैं। पिछले साल दिसंबर में सिंध में 21 और खैबर पख्तूनख्वाह में 22 पोलियो मरीज मिले थे। इसके अलावा पंजाब प्रांत में पोलियो के केस सामने आ रहे हैं। गिलगित-बाल्टिस्तान के तो आंकड़े ही जारी नहीं किए जाते।

Source link

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments