Thursday, July 29, 2021
Homeभारतअमेरिकी कानून के नाम पर भारतीय कानून मंत्री का ट्विटर हैंडल एक...

अमेरिकी कानून के नाम पर भारतीय कानून मंत्री का ट्विटर हैंडल एक घंटे के लिए ब्लॉक, IT मंत्री भी हैं रविशंकर प्रसाद

  • Hindi News
  • National
  • Ravi Shankar Prasad (@rsprasad) Twitter Account Blocks By Twitter | Twitter India News
ट्विटर ने यह कार्रवाई ऐसे समय की है जब नए IT नियमों को लेकर ट्विटर और केंद्र सरकार के बीच टकराव चल रहा है। - Dainik Bhaskar

ट्विटर ने यह कार्रवाई ऐसे समय की है जब नए IT नियमों को लेकर ट्विटर और केंद्र सरकार के बीच टकराव चल रहा है।

ट्विटर ने IT मंत्री रविशंकर प्रसाद का हैंडल आज सुबह एक घंटे के लिए ब्लॉक कर दिया। इसकी वजह बताई गई कि उन्होंने अमेरिका के डिजिटल मिलेनियम कॉपीराइट एक्ट का उल्लंघन किया है। हालांकि बाद में ट्विटर ने चेतावनी देते हुए रविशंकर प्रसाद का का हैंडल फिर से खोल दिया।

रविशंकर प्रसाद ने इस पर रिएक्शन देते हुए कहा है, ‘दोस्तो! आज बहुत ही अजीब घटना हुई। ट्विटर ने मेरे अकाउंट को एक घंटे के लिए ब्लॉक कर दिया।’ प्रसाद ने पहले देशी माइक्रोब्लॉगिंग और सोशल नेटवर्किंग साइट कू के जरिए और फिर ट्विटर के जरिए यह जानकारी शेयर की है।

कानून मंत्री ने ‘कू’ पर कही अपनी बात
ट्विटर पर अकाउंट ब्लॉक होने के बाद रविशंकर प्रसाद ने देसी सोशल मैसेजिंग ऐप कू पर अपनी बात लिखी। उन्होंने लिखा कि…

  • फ्रेंड्स! आज कुछ बहुत ही अनोखा हुआ। ट्विटर ने लगभग एक घंटे तक मेरे अकाउंट तक एक्सेस रोक दी। बताया गया कि कथित तौर पर अमेरिका के डिजिटल मिलेनियम कॉपीराइट एक्ट का उल्लंघन हुआ है। बाद में उन्होंने मुझे अकाउंट एक्सेस करने की परमिशन दे दी।
  • ट्विटर की कार्रवाई इन्फॉर्मेशन टेक्नोलॉजी (इंटरमीडियरी गाइडलाइंस एंड डिजिटल मीडिया एथिक्स कोड) रूल 2021 के नियम 4(8) का उल्लंघन है। वे मुझे अपने अकाउंट तक एक्सेस से रोकने से पहले कोई सूचना नहीं दे पाए।
  • इसके अलावा, अब यह साफ है कि ट्विटर इंटरमीडियरी गाइडलाइंस का पालन करने से इनकार क्यों कर रहा है, क्योंकि अगर ट्विटर इसका पालन करता है, तो वह किसी के भी अकाउंट तक एक्सेस से मनमाने ढंग से इनकार नहीं कर पाएगा और यह उनके एजेंडे के मुताबिक नहीं है।
  • इसके अलावा, पिछले कई साल में, किसी भी टीवी चैनल या किसी एंकर ने सोशल मीडिया पर शेयर किए गए मेरे इंटरव्यू के इन क्लिप के बारे में कॉपीराइट उल्लंघन के बारे में कोई शिकायत नहीं की है।
  • कोई भी प्लेटफार्म हो कोई फर्क नहीं पड़ता, उन्हें नए आईटी नियमों का पूरी तरह से पालन करना होगा और उस पर कोई समझौता नहीं होगा।
  • ट्विटर के इस कदम से संकेत मिलता है कि वे फ्री स्पीच के हिमायती नहीं हैं, जिसका वे दावा करते हैं। वे सिर्फ अपना एजेंडा चलाने में रुचि रखते हैं। इस धमकी के साथ कि यदि आप उनकी खींची गई रेखा का पालन नहीं करते हैं, तो वे आपको अपने प्लेटफार्म से मनमाने ढंग से हटा देंगे।

ये है डिजिटल मिलेनियम कॉपीराइट एक्ट
डिजिटल मिलेनियम कॉपीराइट एक्ट (DMCA) अमेरिका का कॉपीराइट एक्ट है। अक्टूबर 1998 में उस वक्त के अमेरिकी राष्ट्रपति बिल क्लिंटन ने इस कानून को लागू किया था। क्लिंटन ने तब कहा था कि इस कानून को बनाने का मकसद किसी कंटेंट को चोरी होने से बचाना है और चोरी होने पर आरोपी के खिलाफ कार्रवाई करने में मदद करना है। इसके तहत सभी तरह के डिजिटल प्रोडक्ट जैसे ऑडियो, वीडियो, टेक्स्ट, कंटेंट आते हैं।

ज्यादातर ब्लॉग लिखने वाले या कंटेंट क्रिएटर अपने कंटेंट को प्रोटेक्ट करने के लिए इस कानून का सहारा लेते हैं। कोई भी व्यक्ति यदि बिना परमिशन के किसी का कंटेंट कॉपी करता है तो DMCA के तहत उसकी शिकायत की जा सकती है।

नए आईटी नियमों को लेकर ट्विटर और सरकार में है टकराव
आईटी मंत्री का सोशल मीडिया कंपनी की ये कार्रवाई ऐसे समय में सामने आई है जब केंद्र सरकार और ट्विटर के बीच नए आईटी नियमों को लेकर विवाद चल रहा है। इस मामले में पिछले हफ्ते IT मिनिस्ट्री से जुड़ी संसदीय समिति के सामने ट्विटर के प्रतिनिधियों की पेशी हुई थी। समिति ने कंपनी के अधिकारियों से पूछा कि क्या आप देश के कानून का पालन करते हैं?

इस पर ट्विटर के प्रतिनिधियों ने कहा- हम अपनी पॉलिसी को फॉलो करते हैं, जो देश के कानून के अनुसार है। इस दलील पर समिति ने आपत्ति जताते हुए कंपनी से तल्ख लहजे में कहा कि हमारे यहां देश का कानून सबसे बड़ा है, आपकी पॉलिसी नहीं।

Source link

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments