Sunday, July 25, 2021
Homeबिजनेसटाटा की योजना, ग्राहकों को ऑन लाइन डिलिवरी में कम समय में...

टाटा की योजना, ग्राहकों को ऑन लाइन डिलिवरी में कम समय में मिलेगी दवा

  • Hindi News
  • Business
  • Tata 1mg Deal; Online Pharmacy Company Plans To Bring Express Medicine Delivery
ई-मेडिसिन डिस्ट्रीब्यूशन को महामारी से लाभ हुआ है। ग्राहकों को अब पहले से कहीं ज्यादा तेजी से दवाओं की डिलीवरी की जरूरत महसूस की जा रही है। यही बात एक्सप्रेस डिलीवरी के पक्ष में जा रही है - Dainik Bhaskar

ई-मेडिसिन डिस्ट्रीब्यूशन को महामारी से लाभ हुआ है। ग्राहकों को अब पहले से कहीं ज्यादा तेजी से दवाओं की डिलीवरी की जरूरत महसूस की जा रही है। यही बात एक्सप्रेस डिलीवरी के पक्ष में जा रही है

  • इस सेवा को देश भर में एक एक्सप्रेस डिलीवरी के नाम पर ले जाने की प्लानिंग है
  • यह टाटा द्वारा 1mg को खरीदने के बाद पहला बड़ा महत्वपूर्ण कदम होगा

ऑनलाइन फार्मेसी 1mg एक्सप्रेस डिलीवरी लाने की योजना बना रही है। इसके जरिए यह ग्राहकों को एक घंटे के भीतर दवाओं को पहुंचा देगी। टाटा समूह ने हाल ही में इस कंपनी में हिस्सेदारी खरीदी है।

नई दिल्ली और गुरुग्राम में शुरू है प्रयोग

जानकारी के मुताबिक, यह नई दिल्ली और गुरुग्राम के कुछ हिस्सों में ऑर्डर मिलने के 4-5 घंटे के भीतर दवाओं की डिलीवरी शुरू कर चुकी है। इस सेवा को देश भर में एक एक्सप्रेस डिलीवरी के नाम पर ले जाने की प्लानिंग है। हालांकि यह टाटा द्वारा 1mg को खरीदने के बाद पहला बड़ा महत्वपूर्ण कदम होगा।

यह बहुत बड़ा कदम है

एक या दो घंटे के भीतर दवाओं की ऑन-डिमांड डिलीवरी को एक बहुत बड़ा कदम माना जा रहा है। क्योंकि इसकी ऑपरेटिंग कॉस्ट ज्यादा होगी और यह भी आशंका है कि लोग कम दाम के दवाओं का ऑर्डर करेंगे। इससे उनकी ऑपरेटिंग कॉस्ट और भी बढ़ सकती है।

600 रुपए की होगी कम से कम खरीदी

इंडस्ट्री के अंदरूनी सूत्रों के मुताबिक, ई-फार्मेसी प्लेटफॉर्म पर औसत ऑर्डर साइज 1200-1500 रुपए है जबकि एक्सप्रेस डिलिवरी के लिए यह 600 रुपये होगा। यदि प्लेटफ़ॉर्म में न्यूनतम खरीद की रकम फ़िल्टर नहीं है तो यह और भी कम हो सकता है। 1mg ग्राहकों के लिए एक घंटे के भीतर डिलीवरी देने के लिए उत्सुक है। इसकी काफी मांग है, जो महामारी के बाद ही बढ़ी है। क्योंकि लोगों को कम से कम समय में विभिन्न दवाओं और स्वास्थ्य देखभाल से संबंधित उत्पादों की सख्त जरूरत देखी जा रही है। इसलिए इस योजना में तेजी लाने की कोशिश की जा रही है।

मायरा भी ऐसी ही डिलिवरी करती थी

वेंचर कैपिटल फंड मैट्रिक्स पार्टनर्स द्वारा समर्थित बेंगलुरु स्थित स्टार्टअप मायरा मुख्य रूप से दवाओं की एक घंटे की डिलीवरी पर काम करता थी। हालांकि 2019 में मेडलाइफ को खुद को बेचना पड़ा क्योंकि यह सीमित पूंजी के साथ यह चल नहीं पाई। मेडलाइफ को बाद में PharmEasy ने खरीदा और बाद में इसने भी एक्सप्रेस डिलीवरी बंद कर दी।

रिलायंस इंडस्ट्रीज की नेटमेड्स 24 घंटे में देती है दवा

फिलहाल रिलायंस इंडस्ट्रीज के मालिकाना हक वाली नेटमेड्स 24-48 घंटे की स्टैंडर्ड डिलिवरी टाइमलाइन देती है। यह स्थानीय लॉकडाउन नियमों के आधार पर कुछ प्लेटफार्मों पर 72 घंटे तक भी हो सकता है। ऐसी एक्सप्रेस डिलीवरी को मैनेज करने में मुश्किल आ सकती है, लेकिन इसके अपने फायदे और नुकसान भी हैं। आने वाले दिनों में एक्सप्रेस डिलिवरी की डिमांड बढ़ सकती है, लेकिन इसकी सबसे बड़ी चुनौती एवरेज सेलिंग प्राइस होगी।

लागत कंपनियों के लिए चिंता वाली बात

डिलीवरी की लागत मोटे तौर पर एक ऑर्डर के लिए उतना ही होगा, लेकिन जब इसे रिटर्न या एक्सचेंजों में देखा जाएगा तो कम ऑर्डर वाली डिलीवरी घाटे का सौदा होगी। एक्सप्रेस डिलिवरी एक लंबे समय का खेल है जहां किसी कंपनी को चार-पांच साल तक ऑपरेट करने के बाद सही परिणाम का आंकलन करना चाहिए। इसके लिए उस कंपनी को पर्याप्त पूंजी के साथ तीन-पांच साल तक लड़ना होगा ।

गोदामों की ज्यादा जरूरत होगी

बेंगलुरु जैसे शहर में आपको 24-48 घंटे के भीतर की डिलीवरी के लिए चार गोदामों (warehouses) की आवश्यकता होगी। मुंबई में ऐसे सात-आठ की जरूरत होगी, जबकि दिल्ली-एनसीआर में एक दर्जन के करीब गोदामों की आवश्यकता होगी। माना जा रहा है कि टाटा और अन्य निवेशकों की ओर से करीब 10 करोड़ डॉलर से अधिक की हालिया पूंजी ही इस नए वेंचर के निर्माण में 1मिलीग्राम की मदद करेगी।

अधिकांश ई-फार्मेसी पुराने मरीज़ों को पर फोकस करती हैं जो पहले से अपनी खरीद की योजना बनाते हैं और हर महीने देर से दो बार दवाएं मंगाते हैं।

एक्सप्रेस डिलिवरी के रूप में होगी कंपनी की योजना

यह लागत एक्सप्रेस डिलीवरी के लिए अधिक होगा जहां प्लेटफॉर्म दवा के अलावा हेल्थकेयर से संबंधित उत्पादों को भी बंडल कर सकता है। आमतौर पर, ऑफलाइन मेडिकल स्टोर भी कुछ एफएमसीजी उत्पाद भी रखते हैं। जानकारों के मुताबिक, इस क्षेत्र में कदम रखने में उम्मीद से ज्यादा मुश्किलों के दौर से गुजरना पड़ता है। डिलीवरी, रिटर्न और अन्य लागतों में फैक्टरिंग के बाद औसतन एक एक्सप्रेस डिलीवरी में लगभग 40-50 रुपए का मार्जिन होगा। यह स्टैण्डर्ड डिलीवरी के लिए 80-90 रुपए लागत होगी जहां ऑर्डर की साइज भी ऑन-डिमांड डिलीवरी से लगभग दोगुना है।

50 और 80 रुपए के बीच का अंतर छोटा लग सकता है लेकिन यह पर्सेंट के लिहाज से मायने रखता है। यही सबसे बड़ी चुनौती है लेकिन फिर से परिणाम इस बात पर निर्भर करेगा कि कंपनी इससे कितनी देर तक लड़ने को तैयार है।

डिस्काउंट की भी एक सीमा है

ग्राहक छूट के बदले में एक पॉइंट पर एक्सप्रेस डिलीवरी को महत्व देते हैं लेकिन इसकी अपनी सीमाएं हैं। प्राइस वॉर के चरम पर ई-फार्मेसी, हर आर्डर पर औसतन 20-25% डिस्काउंट देती हैं। हालांकि पारंपरिक दुकानें इसका लगातार विरोध कर रही हैं। वर्तमान में यह डिस्काउंट 12-15% के आस-पास है। यह देखना बाकी है कि टाटा और रिलायंस की पसंद आक्रामक मूल्य (aggressive pricing) की पेशकश को फिर से शुरू करेगी या नहीं।

ई-मेडिसिन डिस्ट्रीब्यूशन को महामारी से लाभ हुआ है। ग्राहकों को अब पहले से कहीं ज्यादा तेजी से दवाओं की डिलीवरी की जरूरत महसूस की जा रही है। यही बात एक्सप्रेस डिलीवरी के पक्ष में जा रही है।

Source link

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments