Monday, August 2, 2021
HomeभारतUGC का एजुकेशनल इंस्टीट्यूट को फरमान, मुफ्त टीके के लिए प्रधानमंत्री को...

UGC का एजुकेशनल इंस्टीट्यूट को फरमान, मुफ्त टीके के लिए प्रधानमंत्री को धन्यवाद देने वाले बैनर लगाएं

  • Hindi News
  • National
  • UGC Asks Educational Institutions To Put Up Banners Thanking PM For Free Vaccination
यह फोटो दिल्ली यूनिवर्सिटी के ऑफिशियल ट्विटर हैंडल पर शेयर की गई है। - Dainik Bhaskar

यह फोटो दिल्ली यूनिवर्सिटी के ऑफिशियल ट्विटर हैंडल पर शेयर की गई है।

यूनिवर्सिटी ग्रांट्स कमीशन (UGC) ने सभी यूनिवर्सिटी, कॉलेजों और टेक्निकल इंस्टीट्यूट से कहा है कि वे देश में फ्री वैक्सीनेशन के लिए प्रधानमंत्री मोदी का धन्यवाद देने वाले बैनर लगाएं। सूत्रों ने सोमवार को यह दावा किया।

इस महीने की शुरुआत में प्रधान मंत्री ने 18 साल से ज्यादा उम्र के सभी लोगों के लिए केंद्र सरकार की ओर से फ्री वैक्सीनेशन का ऐलान किया था। सोमवार से इसकी शुरुआत हो गई। रविवार को अलग-अलग यूनिवर्सिटीज के अधिकारियों को भेजे गए एक वॉट्सऐप मैसेज में UGC सेक्रेटरी रजनीश जैन ने संस्थानों को अपने सोशल मीडिया पेज पर बैनर शेयर करने के लिए भी कहा।

बैनर कैसा होगा, इसका फॉर्मेट भी भेजा
रजनीश जैन के कथित टेक्स्ट मैसेज में कहा गया है कि भारत सरकार 21 जून, 2021 से 18 साल और उससे ज्यादा आयु वर्ग के लिए फ्री वैक्सीनेशन शुरू कर रही है। इस बारे में विश्वविद्यालयों और कॉलेजों से गुजारिश है कि वे इन होर्डिंग्स और बैनरों को अपने संस्थानों में डिस्प्ले करें।

सूचना और प्रसारण मंत्रालय की ओर से उपलब्ध कराए गए होर्डिंग्स और बैनरों के डिजाइन हिंदी और अंग्रेजी में आपके रैफरेंस के लिए अटैच हैं। पोस्टर में प्रधानमंत्री की तस्वीर है। उस पर थैंक यू PM मोदी लिखा हुआ है। हालांकि उन्होंने अपने कमेंट के लिए कॉल का जवाब नहीं दिया। कम से कम तीन यूनिवर्सिटी के अधिकारियों ने उनका निर्देश मिलने की पुष्टि की है।

कई यूनिवर्सिटी ने बैनर शेयर किया
दिल्ली यूनिवर्सिटी, हैदराबाद यूनिवर्सिटी, भोपाल में LNCT यूनिवर्सिटी, बेनेट यूनिवर्सिटी, गुड़गांव में नॉर्थकैप यूनिवर्सिटी जैसे संस्थानों ने अपने सोशल मीडिया पेज पर हैशटैग ThankyouModiji के साथ बैनर शेयर किए हैं।

UGC के निर्देश पर तीखी प्रतिक्रिया

  • UGC के इस कदम पर शिक्षाविदों, स्टूडेंट्स बॉडीज और छात्र नेताओं ने तीखी प्रतिक्रिया दी है। स्वराज इंडिया के अध्यक्ष और UGC के पूर्व सदस्य योगेंद्र यादव ने सोशल मीडिया पर लिखा कि UGC के पूर्व सदस्य के रूप में मुझे शर्म आती है। UGC में चीजें तब भी सड़ी हुई थीं (2010-12), लेकिन ऐसी खुशामद अकल्पनीय थी।
  • दिल्ली यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर और एग्जीक्यूटिव काउंसिल के पूर्व सदस्य राजेश झा ने कहा कि यह अभूतपूर्व है। यूनिवर्सिटी का इस्तेमाल सरकार के प्रचार के लिए नहीं किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि विश्वविद्यालय सरकार के हथियार नहीं हैं कि उनका इस्तेमाल ऐसी चीजों के लिए किया जा सकता है।
  • इसी तरह का ख्याल दिल्ली यूनिवर्सिटी टीचर्स एसोसिएशन (DUTA) की आभा देव हबीब का है। उन्होंने कहा कि संस्थानों का इस्तेमाल प्रधानमंत्री के प्रचार के लिए किया जा रहा है। सोशल मीडिया पर उन्होंने लिखा कि फ्री वैक्सीनेशन एक अधिकार है। यह ड्राइव टैक्सपेयर्स के पैसों से चलाई जा रही है।
  • जेएनयू टीचर्स एसोसिएशन की सेक्रेटरी मौसमी बसु ने कहा कि यह हमेशा प्रधानमंत्री के बारे में ही क्यों होता है? यहां तक कि वैक्सीनेशन सर्टिफिकेट में भी उनकी फोटो होती है। अगर हमें धन्यवाद देना है, तो हम हेल्थ केयर वर्कर्स को क्यों नहीं दे सकते। यूजीसी की ओर से यह बताया जाना चाहिए कि हमें कैसे धन्यवाद देना है।
  • DU के प्रोफेसर हंसराज सुमन ने कहा कि यह काफी निंदनीय है। किसी दूसरी सरकार ने अपने प्रचार के लिए UGC जैसी स्वायत्त संस्था का इस्तेमाल नहीं किया है। पैसों का इस्तेमाल इस तरह के सरकारी प्रचार के लिए करने के बजाय, उन छात्रों को मोबाइल फोन देने के लिए किया जा सकता है, जो ऑनलाइन क्लास लेने में परेशानी महसूस कर रहे हैं।

दिल्ली के डिप्टी CM ने लगाया था आरोप
इससे पहले दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने आरोप लगाया था कि केंद्र सरकार दिल्ली में अधिकारियों पर फ्री वैक्सीनेशन के लिए प्रधानमंत्री को धन्यवाद देने के लिए विज्ञापन जारी करने का दबाव बना रही है।

NSUI ने कहा- बिना टीका लगाए धन्यवाद लिया जा रहा
कांग्रेस के स्टूडेंट विंग NSUI राष्ट्रीय अध्यक्ष नीरज कुंदन ने कहा कि यह हास्यास्पद है कि छात्रों को अब तक टीका नहीं लगाया गया है और उन्हें हमारे प्रधानमंत्री को धन्यवाद देने के लिए कहा जा रहा है। छात्र आभारी होंगे अगर सरकार उनकी फीस या एजुकेशन लोन माफी की घोषणा करे।

जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय छात्र संघ के उपाध्यक्ष साकेत मून ने आरोप लगाया कि सरकार अपने प्रचार के लिए हालात का इस्तेमाल करने की कोशिश कर रही है। यह अच्छा नहीं है।

Source link

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments